Home / BJP Press Release / वेश्याएं भी बहन और बेटी होती है, मैं तो उनके भी चरण धोउंगा: मुख्यमंत्री
200b68e1-b5be-40d6-ab19-ea87654dda1d

वेश्याएं भी बहन और बेटी होती है, मैं तो उनके भी चरण धोउंगा: मुख्यमंत्री

कांग्रेस की महिला विरोधी मानसिकता पर शिवराज सिंह चैहान का करारा प्रहार

जनआशीर्वाद यात्रा में उमड़ रहा है भारी जनसैलाब

भोपाल। मुझे वेश्या कहने वाले कांग्रेसी यह ठीक से समझ लें कि किसी न किसी मजबूरी में वेश्यावृत्ति के धंधे में फंसने वाली महिलाएं भी किसी की मां होती है, किसी की बहन होती है, किसी की बेटी होती है। उनकी मजबूरी से उपजी परिस्थितियों का उपहास उड़ाकर कांग्रेस के लोग मानवता के प्रति अपराध कर रहें हैं। मेरे लिए तो वह सभी महिलाएं भी आदर की पात्र हैं जिन्होंने जिन्दगी की जद्दोजहद में इस दल-दल में पैर रखें हैं। इसलिए भारतीय जनता पार्टी उन सभी महिलाओं का भी सम्मान करती है और मैं तो उनके भी चरण धोउंगा।

यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने शनिवार को आगर जिले के नलखेड़ा में आयोजित सभा में कही। उल्लेखनीय है कि विगत दिनों कांग्रेस के एक विधायक ने मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान की जनआशीर्वाद यात्रा को लेकर बेहद गंभीर और अभद्र टिप्पणी की थी। उस टिप्पणी से आहत शिवराजसिंह जी को हजारों लोगों के सामने यह जवाब देना पड़ा। इससे पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष श्री कमलनाथ जी मुख्यमंत्री के प्रति अशिष्ट भाषा का प्रयोग कर चुके हैं।

मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान जन आशीर्वाद यात्रा के अंतर्गत शनिवार को हेलीकॉप्टर से आगर जिले के कानड़ पहुंचे। यहां हेलीपेड पर मुख्यमंत्री के स्वागत के लिए भारी भीड़ जमा थी। सांसद एवं पार्टी के प्रदेश महामंत्री श्री मनोहर ऊंटवाल, विधायक श्री गोपाल परमार, सुसनेर विधायक श्री मुरलीधर पाटीदार, जिलाध्यक्ष श्री दिलीप सकलेचा सहित पार्टी के वरिष्ठ नेतागण, पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री की अगवानी की। कानड़ में विशाल जनसभा को संबोधित करने के बाद मुख्यमंत्री सड़क मार्ग से नलखेड़ा पहुंचे।

कांग्रेसी मित्रों को उनकी गालियां मुबारक

नलखेड़ा पहुंचने पर मुख्यमंत्री ने सबसे पहले मां बगुलामुखी के मंदिर में पहुंचकर आशीर्वाद लिया। इसके उपरांत आयोजित जनसभा में मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के लोग मुझे रोज गालियां देते रहते हैं। न जाने क्यों वो इतने बौखलाए हुए हैं। काँग्रेस के नेता कभी मुझे नालायक तो कभी मदारी कहते हैं। मैं उनसे कहना चाहता हूं कि हां, मैं मदारी हूँ तभी तो डमरू बजाकर गरीबों की बिजली का बिल जीरो कर दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के नेता अब कहते है कि शिवराज सिंह वेश्या है। उन्होंने जनता से पूछा कि कांग्रेस नेताओं की यह भाषा क्या दर्शाती है। क्या ये हमारे भारतीय संस्कार हैं? मुख्यमंत्री ने मंच से कांग्रेस नेताओं को इस आक्षेप का जवाब देते हुए कहा कि कांग्रेस के नेताओं ने मुझे वेश्या कहा है, लेकिन शिवराजसिंह चौहान वेश्याओं को भी अपनी बहन मानता है। उनके भी पाँव धोएगा। उन्होंने कहा कि मैं नारी जाति का सम्मान करता हूँ, इज्जत करता हूँ। किसी मजबूरी में ऐसे दलदल में फंसी बहनों को भी दलदल से निकालूंगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि जिस तरह स्वामी विवेकानद और स्वामी रामकृष्ण परमहंस ने वेश्या को माँ कहा था, मेरे लिए भी वह माँ है, बहन है और बेटी है। मैं माताओं, बहनों और बेटियों का सम्मान कम नहीं होने दूंगा।

बेटियों के दरिंदों को दुनिया में रहने का अधिकार नहीं

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि माँ, बहन और बेटियां मेरे लिए देवियां हैं। महिला सशक्तीकरण के लिए बेटियों की भागीदारी हमने सुनिश्चित की है। 50 प्रतिशत बेटियां चुनाव लड़ें, यह भाजपा ने तय किया। सरकारी नौकरी में भी हमने बेटियों की चिंता की है। शिक्षकों की भर्ती में 50 प्रतिशत और पुलिस की भर्ती में 33 प्रतिशत सीटें महिलाओं के लिए होंगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरी बेटियां कमजोर नहीं। उन्होंने कहा कि जो लोग बेटियों को गलत नजर से देखते हैं, उनको धरती पर रहने का कोई हक नहीं है। बच्चियों के साथ दरिंदगी करने वाले नर पिशाचों को फाँसी पर लटका दिया जाएगा।

बिजली, पानी को तरसाने वाली कांग्रेस दे 50 सालों का हिसाब

कानड़ में हेलीपैड से गांव की तरफ जाते हुए मुख्यमंत्री का रथ जब नान्याखेड़ी से गुजरा, तो लोगों ने पुष्पवर्षा कर मुख्यमंत्री का स्वागत किया। यहां आयोजित जनसभा में मुख्यमंत्री ने कांग्रेस को जमकर आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने प्रदेश को अंधेरे में डुबा दिया था। सड़कें गड्ढों से भरी थी और प्रदेश के लोग पानी के लिए भी तरस रहे थे। उन्होंने सभा में उपस्थित लोगों से पूछा कि जब शिवराज सिंह चैहान प्रदेश में बिजली, पानी और सड़क ला सकता है, तो 50 सालों में कांग्रेस क्यों प्रदेश का विकास नहीं कर पायी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस को जनता के सामने 50 सालों का हिसाब देना होगा। उन्होंने कहा कि आगर जिले में किसानों ने अपना पसीना बहाकर संतरे के बाग तैयार किये हैं। इन किसानों को सिंचाई के लिए पर्याप्त पानी मिले, इसके प्रयास हमने किये है। कछाल तालाब जैसी कई सौगात इस क्षेत्र के किसानों को दी है। आगे भी किसानों की बेहतरी और उनके खेतों को पानी उपलब्ध कराने के लिए योजनाएं तैयार की जाएंगी। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राजा-रजवाड़ों और अंग्रेजों से लेकर कांग्रेस के शासनकाल तक पूरे मध्यप्रदेश में 7.5 लाख हेक्टेयर में सिंचाई की व्यवस्था थी। भाजपा सरकार ने 14 वर्षों में सिंचाई का रकबा 7.5 लाख से 40 लाख हेक्टेयर तक पहुँचाया है। उन्होंने वादा किया कि अब शिवराज इसे 80 लाख हेक्टेयर तक पहुंचायेगा। वहीं, नलखेड़ा में मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस के नेता गरीबी को नहीं जानते। उन्होंने एक तरफ गरीबी हटाओ का नारा दिया और दूसरी तरफ गरीबों का मजाक उड़ाते रहे। श्री चौहान ने कहा कि कांग्रेस सबसे अधिक समय तक सत्ता में रही, लेकिन गरीबी नही हटा पाई। उन्होंने कांग्रेस के नेताओं को सलाह दी कि अगर गरीबी हटाना है तो प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी और शिवराज सिंह चैहान से सीखे।

बच्चों ने पुकारा, तो रथ से उतरकर पहुँच गए मामा

कानड़ में जनसभा के बाद मुख्यमंत्री की जन आशीर्वाद यात्रा बाईँगांव, बगावत जोड़ होते हुए पचलाना पहुंची। यात्रा का रास्ते में जगह-जगह स्वागत करने वालों की भीड़ उपस्थित थी। ग्राम पचलाना में भारतमाता और क्रांतिकारियों की वेशभूषा में सजे सरस्वती स्कूल के बच्चे भी मुख्यमंत्री के स्वागत के लिए खड़े थे। मुख्यमंत्री का रथ जब यहां से गुजरा, तो बच्चों ने मामा-मामा कहकर उनका अभिवादन किया। नन्हें बच्चों के इस आत्मीय अभिवादन से अभिभूत मुख्यमंत्री रथ से उतरकर भांजे-भांजियों से मिलने के उनके बीच पहुँच गए। मुख्यमंत्री ने बच्चों से उनका नाम पूछा और उन्हें दुलार किया।

इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष व सांसद श्री प्रभात झा, मुख्यमंत्री जी की धर्मपत्नी श्रीमती साधना सिंह चौहान, प्रदेश महामंत्री व सांसद श्री अजय प्रताप सिंह, सांसद श्री रोडमल नागर, श्री राजपाल सिसौदिया, श्री गोविंद मालू, श्री जगदीश अग्रवाल, श्री अम्बाराम कराड़ा सहित पार्टी पदाधिकारी मौजूद थे।

Check Also

thumbnail-1

समृद्ध मध्यप्रदेश के लिए डॉ. सहस्त्रबुद्धे ने मांगे सुझाव

भोपाल। मुख्यमंत्री श्री शिवराजसिंह चौहान ने पंचायतों के माध्यम से हर वर्ग के सुझावों को …